HISTORY OF RED FORT , HINDI

Prince kumar
8 minutes
share
upper thumbnail

लाल किले का इतिहास (History of Red Fort in Hindi)

नई दिल्ली में  कई इमारतें हैं,जो मुगल काल की उन्नत शिल्प-कला और वास्तुकला को दर्शाती हैं,इन्हीं इमारतों  में से एक नाम  लाल किला भी हैं. वैसे तो भारत के लगभग हर शहर में एक किला हैं लेकिन लाल किले को भारत के मुख्य किलों में से एक माना जाता हैं,क्योंकि हर काल में ये किला ही भारत का शक्ति का केंद्र रहा हैं. इस किले ने अपने निर्माण के समय से लेकर वर्तमान समय तक बहुत से परिवर्तन देखे हैं. मुगल काल से शुरू हुयी इस किले की कहानी को समझने के लिए इसके निर्माण, वैभव और18 वी शताब्दी से लेकर सन 2000 तक इस पर हुए हमलों के अलावा गत वर्ष सरकार द्वारा इसे बेचे जाने तक की अफवाह के  साथ ही इसकी तात्कालिक स्थिति को समझना जरूरी हैं.

 

नाम लाल किला
लाल किला किसने बनाया ? उस्ताद अहमद लाहौरी
लाल किला किसने बनवाया था ? शाहजहाँ
लाल किला कब बनाया गया ? 6 अप्रैल 1648
स्थान दिल्ली
लाल किले पर कब हुआ था आतंकी हमला

22 दिसम्बर 2000 [स्वतंत्र भारत]

 

  • शाहजहाँ ने इसे तब बनवाया था,जब उसने अपनी राजधानी को आगरा से दिल्ली स्थान्तरित किया था. यह किला यमुना नदी के किनारे स्थित हैं । लाल किले का निर्माण कार्य 13 मई 1638 को मुहर्रम के पवित्र महीने में शुरू हुआ था जो कि 6 अप्रैल 1648 को पूरा हुआ था. इस तरह इसे बनने में पूरे 9 साल लगे थे और इसकी एक विशेषता ये भी थी कि शाहजहाँ ने इसे खुद अपनी देख-रेख में बनवाया था.. इसके डिजाईन का निर्माण उस्ताद अहमद लाहोरी द्वारा किया गया था , इन्होने ही ताजमहल की डिजाईन भी बनाई थी।

किले का नाम लाल किया क्यूँ पड़ा ? किले के अन्य नाम क्या थे ?

  • पहले इस किले का नाम किला-ए-मुबारक था जिसका अर्थ होता हैं ब्लेस्ड फोर्ट। इसके अलावा किला-ए-शाहजहानाबाद (शाहजहानाबाद का किला) या किला-ए-मुआला (ऊंचा किला) भी इसके नाम रहे हैं.
  • यह मध्यकालीन शहर शाहजहानाबाद का हिस्सा था,जिसे आजकल पुरानी दिल्ली के नाम से जाना जाता हैं.  आकर्षक आर्किटेक्चर वाले इस किले का नाम लाल रंग के पत्थर से बनी दीवारों के कारण “लालकिला” पड़ा.असल में शाहजहाँ को लाल रंग पसंद था ।

 मुगल काल में औपचारिक और राजनीतिक घटनाओं का साक्षी रहे इस किले के इतिहास से काफी रोचक बातें जुडी हैं.

मुगल काल में लाल किले से जुड़ी रोचक बाते

Prince kumar
share

Related Posts

Comments (0)
New Blog
New Gallery